होम   -  जनसंख्या के मूलसिद्धांत  -  जनसंख्या का विषय महत्वपूर्ण क्यों है   -  पर्यवलोकन
पर्यवलोकन
जे.एस.के.  के कार्य
जे.एस.के.  किस प्रकार भिन्न है?
जे.एस.के.  की निधि
सदस्यता का पंजीकरण
दान और अंशदान
जिला स्तर पर स्वास्थ्य संबंधी आंकड़े
  

विश्व की जनसंख्या

भारत की जनसंख्या

जनसंख्या का विषय महत्वपूर्ण क्यों है
- पर्यवलोकन
- जनसंख्या वृद्धि का प्रभाव
- जनसांख्यिक संक्रमण क्या है?
- जनसंख्य संवेग
- सहस्राब्दि विकासलक्ष्य
- मातृ मृत्युदर अनुपात
- भारत में पुरूष और महिलाएं
- शिशु मृत्युदर
- बाल विषय
- शिशु लिंग अनुपात
- कुल जननक्षमता दर
- योजनाबद्ध पितृत्व में पुरूषों की भागीदारी
- परिवार नियोजन की विधियों की जानकारी
सरलीकृत जनसंख्या की अवधारणा
सरकार के प्रचलित कार्यक्रम
जनसंख्या से संबंधित संपर्क

यौन और जनन स्वास्थ्य पर 
प्राय पूछे जाने वाले प्रश्नः

सीधे उत्तर

पर्यवलोकन

धारणीय विकास को प्रोत्साहित करने के लिए जनसंख्या को स्थिर एक अनिवार्य आवश्यकता है। जनन स्वास्थ्य की देखरेख को सुगम बनाना जनसंख्या स्थिरीकरण का आधार है।

कुछ तथ्यः

  1. भारत की जनसंख्या का 51 प्रतिशत भाग जनन आयु वर्ग का है।
  2. वर्ष 2016 तक 1570 लाख व्यक्ति अतिरिक्त बढ़ जाएंगे।
  3. प्रति परिवार दो बच्चों के बाद जन्म लेने वाले बच्चों के कारण ही जनसंख्या में लगभग 42 प्रतिशत वृद्धि होगी।
  4. 1880 लाख दंपत्ती या युवक-युवतियों को गर्भनिरोधक की आवश्यकता है।
  5. उनमें से केवल 53 प्रतिशत दंपत्ती ही गर्भनिरोधक का उपयोग कर रहे हैं।

गर्भ निरोधक सेवाएं उपलब्ध होने के बावजूद भी अधिकांश व्यक्ति उनकी जानकारी और पहुंच जैसी समस्याओं के कारण उनका उपयोग नहीं कर पाते। इस स्थिति में सुधार लाने के लिए विशेष प्रयासों की आवश्यकता है और विशेषतः उन क्षेत्रों में जहां इस दिशा में कम कार्य किया गाया है


भोपाल, विश्व जनसंख्या दिवस, जुलाई 11, 2006।

 

New Page 2

  प्रतिलिपि अधिकार 2007,  जनसंख्या स्थिरता कोष , सर्वाधिकार सुरक्षित