होम  -  जे. एस. के.  के संबंध में  -  जिला स्तर पर स्वासाथ्य संबंधी आंकड़े
पर्यवलोकन
जे.एस.के.  के कार्य
जे.एस.के.  किस प्रकार भिन्न है?
जे.एस.के.  की निधि
सदस्यता का पंजीकरण
दान और अंशदान
जिला स्तर पर स्वास्थ्य संबंधी आंकड़े
 

विश्व की जनसंख्या

भारत की जनसंख्या

जनसंख्या का विषय
 महत्वपूर्ण क्यों है ?
सरलीकृत जनसंख्या की अवधारणा
सरकार के प्रचलित कार्यक्रम
जनसंख्या से संबंधित संपर्क

यौन और जनन स्वास्थ्य पर 
प्राय पूछे जाने वाले प्रश्नः

  सीधे उत्तर
जिला स्तर पर स्वास्थ्य सुविधा, जी. आई. एस मानचित्र और अनुक्रमणियां
 
 
 
जिला वार स्वास्थ्य सुविधा संबंधी आंकड़े

राज्य :     


जिला :     

जनसंख्या स्थिरता कोष (जे. एस. के.) (राष्ट्रीय जनसंख्या स्थिरता निधि) ने राष्ट्रीय सूचनात्मक केन्द्र की मदद से एक अद्वितीय कार्य प्रारम्भ किया है ताकि जिला स्तर पर स्वास्थ्य सुविधाओं की उपलब्धता दर्शाने वाले मानचित्र तैयार किए जा सकें। इन मानचित्रों में जी. आई. एस. मानचित्रों और जनगणना के आंकड़े दर्शाए जाते हैं, जो प्रत्येक, जिला इसके उप-प्रभागों और प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों के स्थान, उप-केन्द्र, प्रमुख कस्बे और शहरी क्षेत्र की स्थिति दर्शाते हैं। प्रत्येक जिले के लिए अलग-अलग एक विशिष्ट शीट लगी होती है जिसमें प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र से प्रत्येक तालुका (उप-जिला) प्रत्येक गांव की दूरी दिखाई जाती है। प्रत्येक गांव की जनसंख्या को जनगणना कोड का प्रयोग करते हुए जनगणना के आंकड़ों के अनुसार दर्शाया गया है। इसलिए गांवों के नाम वर्णक्रम में नहीं दिखाए गए हैं।
जी. आई. एस. मानचित्र और जमगणना आंकड़े उत्तर पूर्व राज्यों और हिमाचल प्रदेश को छोड़कर देश के अन्य राज्यों के लिए पूरे किए जा चुके है।

मानचित्र बटनः कृपया दी गई सूचियों से राज्य और अनुरूप जिले का चयन करें और मानचित्र बटन को दबाएं, आप देखेंगे कि उसमें दिए गए नाम 2001 की जनगणना के अनुसार है। 

दूरी बटनः प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र से प्रत्येक गांव की दूरी देखने के लिए मानचित्र को यथासंभव छोटा करें और एक्सेल बटन दवाएं। यह निम्नलिखित तीन कॉलमों में गांव दर्शाएगाः

0-5 कि.मी. (पृष्ठ भूमि पीले रंग में)
5-10 कि.मी. (पृष्ठ भूमि ब्राउन रंग में)
10 कि.मी. से अधिक (पृष्ठ भूमि लाल रंग में)

श्रेणी (रेंक) बटनः जनसंख्या स्थिरता कोष में निम्नलिखित दर्शाते हुए प्रत्येक जिले के लिए बार चार्ट तैयार किया हैः-

  1. तीन या इससे अधिक बच्चों वाली महिलाओं का प्रतिशत।
  2. गर्भनिरोधक प्रचलन दर।
  3. 5 वर्ष से कम आयु के बच्चों की मृत्यु दर।
  4. प्रसव से पहले 3 या अधिक बार स्वास्थ्य जांच।
  5. देश में जिले की समग्र श्रेणी।

यह सूचना जिलों के श्रेणीकरण और मानचित्र के उस अध्ययन पर आधारित है जो अन्तर्राष्ट्रीय जनसंख्या विज्ञान (आई. अई. पी. एस). मुंबई के प्रो एफ. राम और डा. चन्द्र शेखर द्वारा किया गया है। जनसंख्या स्थिरता कोष ने इस सूचना को दृश्य रूप में तैयार किया है ताकि सभी पण्धारियों को संवेदनशील बनाया जा सके और उन्हें ऐसा नवीन परियोजनाएं प्रारम्भ करने के लिए प्रोत्साहित किया जा सके जो सकारात्मक अंतर दिखा सकें।

टिप्पणीः- सभी विन्डो को देखने के लिए कृपया अपने इंटरनेट ब्राउजर के पी. ओ. यू. पी ब्लॉकर को निष्क्रिय कर दें।

New Page 2

  प्रतिलिपि अधिकार 2007,  जनसंख्या स्थिरता कोष , सर्वाधिकार सुरक्षित