होम  -  जनसंख्या के मूल सिद्धांत  -  सरकार के प्रचलित कार्यक्रम
पर्यवलोकन
जे.एस.के.  के कार्य
जे.एस.के.  किस प्रकार भिन्न है?
जे.एस.के.  की निधि
सदस्यता का पंजीकरण
दान और अंशदान
जिला स्तर पर स्वास्थ्य संबंधी आंकड़े
 

विश्व की जनसंख्या

भारत की जनसंख्या

जनसंख्या का विषय
 महत्वपूर्ण क्यों है ?
सरलीकृत जनसंख्या की अवधारणा
सरकार के प्रचलित कार्यक्रम
जनसंख्या से संबंधित संपर्क

यौन और जनन स्वास्थ्य पर 
प्राय पूछे जाने वाले प्रश्नः

  सीधे उत्तर
 
राष्ट्रीय ग्रामीण स्वास्थ्य- मिशन
राष्ट्रीय ग्रामीण स्वास्थ्य मिशन (2005-12) जिन 18 राज्यों मे जन स्वास्थ्य सूचक क्षीण है और/या उनकी अवसंरचना में जन स्वास्थ्य सूचक क्षीण हैं, उन राज्यों पर विशेष ध्यान केन्द्रित करते हुए समस्त देश मे ग्रामीण जनसंख्या को स्वास्थ्य की देखरेख के लिए प्रभावी साधन उपलब्ध कराना चाहता है
 
 
राष्ट्रीय ग्रामीण स्वास्थ्य- मिशन
महत्वपूर्ण कोर नीति
  • भारतीय जन स्वास्थ्य मानकों का अनुसरण करते हुए विद्यमान अवसंरचना और 30-50 बिस्तरों वाले अस्पतालों की व्यवस्था को सुदृढ बनाना।

  • अन्तः क्षेत्रीय जिला स्वास्थ्य योजना तैयार करना और कार्यन्वित करना।

   
राष्ट्रीय ग्रामीण स्वास्थ्य मिशन के अधीन नई पहल
मातृ मृत्युदर कम करना

  • बन्ध्यीकरण सहित अन्य सेवाओं की व्यवस्था में निजी प्रबंधकों को शामिल करना।

  • जनसंचार के साधनों द्वारा परामर्श देना

  • गर्भनिरोधकों का सामाजिक विपणन

  • डिपो धारकों के रूप मे कार्य करने के लिए पंचायती राजसंस्थाओं को सम्मिलत करना।

राष्ट्रीय ग्रामीण स्वास्थ्य मिशन के अधीन नई पहलः
मातृ मृत्युदर कम करना
  • आपाती प्रसूति देखरेख के लिए जीवन रक्षक निश्चेतना कोशल में एम.बी.बी.एस. डाक्टरों को प्रशिक्षित किया जाना।

  • प्रथम रेफरल यूनिट पर रक्त भण्डारण केन्द्रों की स्थापना करना।

     

   
जनानी सुरक्षा योजना
प्रसव पूर्व देखरेख पर ध्यान केन्द्रित करते हुए समस्त गर्भाविधि के दौरान जांच करते रहना।

उपयुक्त रेफरल और परिवहन सहायता उपलब्ध कराना।

सेवा प्रबंधकों और गर्भवती महिलाओं के बीच प्रभावी संपर्क बनाने- प्रसव कराने के लिए महिलाओं के साथ प्रसव केन्द्रों पर जाने और उनकी मदद करने के लिए अधिकृत सामाजिक स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं की व्यवस्था करना।
 
जनानी सुरक्षा योजना
सिजेरियन आप्रेशन के लिए व्यवस्था

निजी क्षेत्र से विशेषज्ञों की सेवाएं लेने के लिए प्रति आप्रेशन1500/-रु. तक

जनानी सुरक्षा योजना
प्रति प्रसव नगदी लाभ का मापदण्ड (रूपयों में)
ग्रामीण क्षेत्र शहरी क्षेत्र
श्रेणी संस्थागत प्रसव घर पर प्रसव अधि.सा. स्व. कार्यकर्ता संस्थागत प्रसव घर पर प्रसव अधि.सा. स्वकार्यकर्ता
निम्न निष्पादन वाले राज्य 1400 500 600 1000 500 200
उच्च निष्पादन वाले राज्य 700 500 600 500
  • एल. पी. एस. निम्न निष्पादन वाले राज्य (10राज्य) 8 ई. ए. जी. राज्य और आसाम एवं जम्मू और कश्मीर।
  • एच. पी. एस. उच्च निष्पादन वाले राज्य- अन्य सभी और संघ राज्य क्षेत्र।
अधिक जानकारी के लिए यहां क्लिक करें (राष्ट्रीय ग्रामीण स्वास्थ्य मिशन)।

 

New Page 2

  प्रतिलिपि अधिकार 2007,  जनसंख्या स्थिरता कोष , सर्वाधिकार सुरक्षित