होम   -  जनसंख्या के मूलसिद्धांत  -  भारत की जनसंख्या 
पर्यवलोकन
जे.एस.के.  के कार्य
जे.एस.के.  किस प्रकार भिन्न है?
जे.एस.के.  की निधि
सदस्यता का पंजीकरण
दान और अंशदान
जिला स्तर पर स्वास्थ्य संबंधी आंकड़े
  

विश्व की जनसंख्या

भारत की जनसंख्या

- भारत की जनसांख्यिकी प्रवृति
- वृद्धि दरें
- एक दशक में जनसंख्या वृद्धि
- जनसंख्या प्रक्षेपण
- राज्यों द्वारा जनसंख्या स्थिरीकरण
जनसंख्या का विषय
 महत्वपूर्ण क्यों है ?
सरलीकृत जनसंख्या की अवधारणा
सरकार के प्रचलित कार्यक्रम
जनसंख्या से संबंधित संपर्क

यौन और जनन स्वास्थ्य पर 
प्राय पूछे जाने वाले प्रश्नः

सीधे उत्तर


भारत की जनसांख्यिकी प्रवृति

जनसंख्या वृद्धि भारत की सबसे बड़ी चुनौतियों में से एक है। वर्ष 1951 से देश की जनसंख्या 36.11 करोड़ से बढ़कर 102.87 करोड़ हो गई है।

भारत की जनसांख्यिकी प्रवृति (स्रोतः एच डी आर 2006)

कुल जनसंख्या (अरबों में)

वार्षिक जनसंख्या वद्धि दर (प्रतिशत)

1975 (620.7

1975-2004 (1.9)

2004 (1087.1)

2004-15 (1.3)

2015 (1260.4)

 

शहरी जनसंख्या (कुल का प्रतिशत)

15 वर्ष से कम आयु वाली जनसंख्या (कुल का प्रतिशत)

1975 (21.3)

2004 (32.5)

2004 (28.5)

2015 28-0

2015 (32.0)

 

65 वर्ष और आयु वाली जनसंख्या (कुल का प्रतिशत)

कुल जनन क्षमता दर (प्रति महिला दर)

2004 (5.2)

1970&75 5-4

2015 (6.2)

2004&05 3-1

जनसंख्या मानचित्र देखने के लिए यहां क्लिक करें।
राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण- 3 से प्राप्त राज्यों के टी. एफ. आर. के लिए यहां क्लिक करें।
 भारत में सी. बी. आर. और सी. डी. आर. की प्रवृति देखने के लिए यहां क्लिक करें।
भारत में टी. एफ. आर. की प्रवृति देखने के लिए यहां क्लिक करें।
महिलाओं के शिक्षा के स्तर द्वारा टी. एफ. आर की प्रवृति देखने के लिए यहां क्लिक करें।
 
जनसंख्या और स्वास्थ्या संबंधी मुख्य संकेतकों से सीधा संपर्क, राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण - 3

 

New Page 2

  प्रतिलिपि अधिकार 2007,  जनसंख्या स्थिरता कोष , सर्वाधिकार सुरक्षित